सरवाड में देश के महान संत हज़रत ख्वाजा गरीबनवाज के बेटे फखरुद्दीन चिश्ती का है मज़ार

अजमेर, राजस्थान : हिंदुस्तान सूफ़ी संतो का देश है और यहाँ रहनेवाले मुसलमानों के अलावा सभी धर्मों के लोग औलिया अल्लाह में अपने तरीक़े से श्रद्धा रखते है। सच्चे सूफ़ी संतो की दरगाहों पर करामत या चमत्कार होते ही रहते है जिसे लोग अपनी आँखो से देखते भी है।

देश के महान सूफ़ी संत हज़रत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती गरीबनवाज़ की दरगाह अजमेर से क़रीब 70 कि.मी के फ़ासलें पर उनके बेटे हज़रत फखरुद्दीन चिश्ती के मज़ार के गुंबद पर रविवार की शाम एक तस्वीर बनी दिखाई दी जिसे देख ऐसा लग रहा था जेसे कोई बुजुर्ग बेठे हुए है।हज़रत फ़ख़र चिश्ती की दरगाह के पीछे तालाब से सटें मामूसाहब के मज़ार से ये मंजर किसी फ़क़ीर ने देखा और फिर धीरे-धीरे यह बात पूरे सरवाड में सोशल नेट्वर्क से फैल गई और फिर वाइरल हो गई।

News 5 ने अजमेर के ख़ादिम सैयद सकलैन चिश्तीसाहब से टेलेफ़ोनिक संपर्क कर मामले कि पुष्टि की तो पता चला की रविवार की शाम रोशनी के वक्त हज़रत ख्वाजा फ़ख़र चिश्ती की दरगाह के गुंबद पर इक अक्स बना था जिसे देख कर लगता था कि कोई रूहानी शख़्सियत बेठी हुई है।